Pal Jab Intazar Ka Ho..Kuch Is Tarah Intazar Karna..: Kavi Sandeep Dwivedi









पल जब इंतज़ार का हो ..

Love is the most pleasant feeling...Moment of waiting in Love is that stage which shows the Importance of the Special one..Those moments become more magical when u start living them with your loved ones even in your day dream... These lines are totally dipped in those moments of waiting and Love even after being apart...
i have written this in 2016.

पल जब इंतज़ार का हो 
कुछ इस तरह इंतज़ार करना
जैसे जहां में तेरे लिए
बस मैं ही हूँ..बस मैं ही हूँ ..


ग़र भीग न पाऊं तेरे संग
हर बार सावन की बारिशों में
ऐसे मेरा एहसास करना..
तुम पर टपकती बूँद में
बस मैं ही हूँ..बस मैं ही हूँ ...
पल जब इंतज़ार का हो ....


ग़र मैं कभी गिर पडूं
वक्त के दिए हालात से
ऐसे मुझे संभाल लेना...
जैसे की तेरा हौसला
बस मैं ही हूँ..बस मैं ही  हूँ ..
पल जब इंतज़ार का हो ....


दुनिया की भागा दौड़ी में
उलझा जो तुमको दिखूं मैं
कुछ ऐसे मुझे समेट लेना..
जिसे तुम्हारे एकांत में
बस मैं ही हूँ ..बस मैं ही हूँ ...
पल जब इंतज़ार का हो...


दुनिया के हजारों रंगों में
ग़र मैं कभी फीका लगूं
ये सोच अकेला न छोड़ना..
जैसे तुम्हारी रंगीनियत
बस मैं ही हूं..बस मैं ही हूँ ..
पल जब इंतज़ार का हो ....
          - Kavi Sandeep Dwivedi


Like Share Subscribe




Comments

  1. क्या कहूँ शब्द ही नही मिल रहे
    मैं तो सुनते हुए खो सी गई ...

    ReplyDelete
  2. Nc poetry dwivedi ji.....
    Bs apki klm bhi dil ki kmjor lakiro ko kuch es trh ubherti h unbelievable 💐🎊🎉💐🎉👍👍👍👍👍

    ReplyDelete

Post a Comment