Monday, October 5, 2020

जीवन गिरता उठता है ..Best Motivational Poem..Kavi Sandeep Dwivedi

आइये ,स्वागत है 

कविताएँ पढ़ें भी और सुनें भी ..


हमें जो अनुभव मिले उसे सहेज कर रखने में हित है...इसी के बल पर कितने ही उतार चढ़ाव आते रहे हैं ..और हमने कितनी कुशलता से उनको सुलझाया भी है  सामना किया है ...और हम सबको यही हुनर नयी सीखें हमें आगे के लिए संजोते रहना है .

पढ़ें 👉|कौन हारता नही। Best Motivational Poetry

मिलना छूटना, पाना खोना जीवन के स्तम्भ हैं..बात यह है कि हमें अपने भीतर में जीवित रहना है ...भले ही हार हो...भले ही कुछ न मिले ..यही जीत है जो बहुत कम में होती है ..

पुरानी घटनाएं पुरानी हैं ...उनसे केवल हम सीख लें ..बाकी छोड़ दें ..

यह जीवन है .. .न  संभावनाएं कम हैं ..न आपदाएं

लड़ते रहें और ये कविता गाते रहें ...बहुत ऊर्जा मिलेगी ...

जो  नही मिला

क्या उसका ग़म

की थी कोशिश

कब तुमने कम

जो रुका  नही

तेरे खातिर

क्यों उसके खातिर

रुकता है

जीवन गिरता उठता है ...

 

दिल फिसले तो समझा लेना

ख़ुद से ही क्या पंगा लेना

न मुश्किल कुछ भी पा लेना

ना मुश्किल कुछ भी खो देना

नाव भले मझधार में हो

नाविक कब इनको झुकता है

जीवन गिरता उठता है ...

 

भीतर क्यों भरी उदासी है

ये भरी नदी क्यों प्यासी है

हर बार दिशा सुलझाएगा

यह जीवन गंगा, काशी है

जिस पग को मीलों चलना है

एक दो पग किसको चुभता है

जीवन गिरता उठता है ...

 

थामें सागर को पर्वत भी

लहरों को देख उछलता है

वीणा का हर तार किसी

साधक के लिए मचलता है

ये मोह तभी बनता है जब

जीवन का क्षण क्षण घिसता है

जीवन गिरता उठता है ...

जीवन गिरता उठता है .. 

   - kavi sandeep dwivedi

धन्यवाद,मिलते हैं फिर कुछ और लेकर...

शुभकामनाएं...

यह भी पढ़ें। पत्र मेरा प्यार वाला।। Best Love Poem..