हनुमान जयंती की आप सबको हार्दिक शुभकामनाएं।। 
महावीर हनुमान रामकथा में प्रभु श्री राम के कई  लक्ष्यों को साधने में प्रमुख चरित्र थे। 
यदि हम रामायण पढ़ें तो हम समझ पाते हैं कि हनुमान जी के लिए
कोई बड़ी बात नही..धरती के इस छोर से उस छोर तक कुछ क्षण में पहुँच पाना। 
कोई बड़ी बात नही..रावण जैसे कई दंभी कुपंथी राक्षस का कुल समेत नाश करना। कोई बड़ी बात नही। 
कोई बड़ी बात नही. .लंका संहारना। 
 कहना ये है कि उनकी इन विलक्षण कलाओं के अतिरिक्त हनुमान के कई गुण भी सामने आते हैं।...हम सभी उनके प्रसंगों से परिचित हैं जो उनको,उनकी विचित्रता को एक अहम स्थान दिलाते हैं 
उनके जीवन से बहुत संदेश निकल सकते हैं लेकिन उनके जीवन से, रामकथा से जितना मैं समझ सका हूं..जो मुझे लगा...उनकी जयंती पर संक्षिप्त में कहना चाहूंगा। 
और जो हम सबके दैनिक आचरण में भी शामिल होना चाहिए। 

काम के प्रति निष्ठा
जब सुषेण वैद्य के आदेश से हनुमान मूर्छित लक्ष्मण के लिए संजीवनी लेकर आते हैं तो बीच में कई अवरोध आने पर भी भटकते नही। प्रभु को दिया गया वचन वो निभाते हैं। 
जब संजीवनी नही मिल रही थी तब पर्वत उठाने की क्या आवश्यकता थी। पर कैसे भी उन्हे समय पर पहुँचाना था। 
हम सबको भी अपने काम को पूरी निष्ठा से करना चाहिए फिर न हो पाए अलग बात है। 

जितना कहा जाय उतना
जितने गुण मैंने सबसे ऊपर कहे आपको लगता है कि मां सीता को लाना उनके लिए कोई मुश्किल था लेकिन प्रभु श्री राम से उनको यह आज्ञा नही मिली थी। 
सब सामर्थ्य होते हुए भी जितना कहा गया उतना। और इसके अतिरिक्त सेवक की तरह उन्होंने सीता जी को ढूढा और अपने प्रभु श्री राम की विजय के लिए लंका में रास्ता आसान किया। गुप्त जानकारियाँ इकट्ठा की। 
वीर किंतु विनम्र
पूरी लंका भस्म कर सकने वाला वानर जब रावण की सभा में प्रभु श्री राम का शांति संदेश सुनाता है तो एक संदेश वाहक की ही तरह बड़े विनम्र भाव से संदेश सुनाता है।चाहता तो कुछ भी कर सकता था। 
राम के काज में सबसे अहम भूमिका निभाने के बावजूद प्रभु श्री राम से यही कहते रहना कि मैं कुछ नही स्वामी। बस आपकी कृपा है।ये विनम्रता की पराकाष्ठा है। 
एक सार में कहें तो जिसकी विराटता विनम्रता लिए होती है वो हनुमान होता है। 
एक बार फिर हनुमान जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं।। 
धन्यवाद।। 







11 Comments

  1. बहुत ही सुंदर और प्रेरक संदेश,
    द्विवेदी जी आपको धन्यवाद ����

    ReplyDelete
  2. As always, this writing written by you also inspired me.
    Thank you.

    ReplyDelete
    Replies
    1. ohh thank you..
      Best wishes to you..
      take care..

      Delete
  3. विराटता विनम्रता लिए होती है वो हनुमान होता है........nice line.....
    Nice blog.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. thank you ronak ji..jai hanuman..
      best wishes..

      Delete
  4. वाह कुछ क्षणो क लिये ऐसा लगा मनो मै स्वर्ग मे हुँ। आपके शब्द मंत्रमुग्ध कर देते हैं। पर आपकी आवाज़ मे सुनना बहुत ही सुन्दर लगता है।

    ReplyDelete
  5. https://maheshkikavitaye.blogspot.com/2019/03/blog-post_85.html?m=1
    Please take a look
    I tried to write something

    ReplyDelete